केदारनाथ सिंह – बाज़ार

बाज़ार – केदारनाथ सिंह ‘आओ बाज़ार चलें’ उसने कहा ‘बाज़ार में क्या है’? मैंने पूछा ‘बाज़ार में धूल है’ उसने हंसते … More

तितली, गांधीजी, दुआ – तीन उदय प्रकाश से

उदय प्रकाश, अबूतर कबूतर, २००५, स्वर्ण जयंती, दिल्ली तितली सरकार एक तितली पकड़ना चाहती है, उसे चाहिए एक फूल बैजयन्ती … More