कुफ्र – अमृता प्रीतम

कुफ्र

आज हमने एक दुनिया बेची
और एक दीन ख़रीद लिया
हमने कुफ्र की बात की

सपनों का एक थान बुना था
एक गज़ कपड़ा फाड़ लिया
और उम्र की चोली सी ली

आज हमने आसमान के घड़े से
बादल का ढकना उतारा
और एक घूंट चांदनी पी ली

यह जो एक घड़ी हमने
मौत से उधार ली है
गीतों से इसका दाम चुका देंगे

अमृता प्रीतम

_

Denial

Today we sold a world
And bought a day
We did a faithless thing

A roll was woven of our dreams
We tore one yard of cloth,
Sewed ourselves a blouse for the times

From the sky’s pitcher, today
We lifted the cloud cover,
Took one gulp of moonlight

For this, a watch, we
Have taken a loan from death
The price will be paid from songs

Amrita Pritam

(my translation, corrections welcome!)

_

Ranchi fog new print

Advertisements